- Sponsored -

- Sponsored -

किसान चाची राजकुमारी देवी के संघर्ष से पद्मश्री तक का सफर पढ़ें

कहते है की कुछ अच्छा करने के लिए मेहनत और लगन की ज्यादा जरूरत होती है

905

कहते है की कुछ अच्छा करने के लिए मेहनत और लगन की ज्यादा जरूरत होती है और ऐसा साबित करने वाली महिला बिहार के मुजफरपुर जिले कि हैं और इस बार कृषि वाणी की टीम की मुलाकात पद्म श्री सम्मान से सम्मानित किसान चाची के नाम से प्रसिद्ध है असली में इनका नाम राजकुमारी देवी है जो की आज भारत के कई महिलाओं के लिए प्रेरणाश्रोत बन गई है गांव गांव साइकल से घूमकर घूमकर अंचार पापड बेचना और कृषि का प्रशिक्षण देना एवं महिलाओं को जोड़ने से लेकर कई तरह के कार्यों से ये लोगों की मुरीद बन गई है आज किसान चाची के अंचार और मुरब्बे की धूम आपको कई कृषि मेले में देखने को मिल सकती है इस बार कृषि वाणी की टीम से किसान चाची की मुलाकात डॉ राजेंद्र कृषि विश्विद्यालय पूसा द्वारा आयोजित कृषि मेले में हुई और किसान चाची के अनुभवों के बारे में जाना

किसान चाची बनने के संघर्ष का सफर

- Sponsored -

राजकुमारी देवी किसान चाची का जन्म मध्यमवर्गीय शिक्षक के घर में हुआ था और पुराने ज़माने में जल्द ही शादी हो जाती थी इसलिए दसवीं पास होते ही 1974 में उनकी शादी किसान परिवार में अवधेश कुमार चौधरी से कर दी गई। शादी के बाद वह अपने परिवार के साथ मुजफ्फरपुर जिले के आनंदपुर गांव में रहने लगी। राजकुमारी देवी के मन में शुरू से ही कुछ अलग करने का लगन था ये टीचर बन शिक्षा से सभों को जोड़ना चाहती थी लेकिन पुराने समय में हालात ऐसे होते थे की समाज और घरवालों के विरोध के कारण वह ऐसा नहीं कर सकी और घर में परिवार की आर्थिक तंगी के कारण कृषि को लक्ष्य बना लिया और कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा


राज्यस्तरीय एवं केंद्र से सम्मान मिले

मात्र डेढ़ सौ रुपये से शुरू किया गया उनका कारोबार बढ़ता गया और इसका परिणाम आया कि बिहार सरकार ने राजकुमारी को वर्ष 2006-07 में ‘किसान श्री’ सम्मान से सम्मानित किया। और किसान चाची को सरैया कृषि विज्ञान केंद्र की सलाहकार समिति की सदस्य बना दिया गया । उनकी सफलता की कहानी पर केंद्र सरकार के कृषि विभाग द्वारा फिल्म का भी निर्माण कराया गया है। एक्टर अमिताभ बच्चन भी ‘कौन बनेगा करोड़पति’ में किसान चाची की लगन और मेहनत के कायल हो चुके हैं।और किसान चाची को आर्थिक मदद दे कर उनके काम को आगे बढ़ाने में मदद कि |आज किसान चाची कई महिलाओं को अपने घर पर ही खेती और अचार बनाने का तरीका भी सिखा रही हैं।

स्वयं सहायता समूह बनाया

स्वयं सहायता समूह बनाया जिससे गांव कि महलाओं को जोड़ा और प्रशिक्षण दे कर कई उत्पाद जैसे अंचार ,पापड, मुरब्बा बनाने का कार्य शुरू किया ग्रामीण महिलाओं को कृषि का प्रशिक्षण दे कर कई प्रकार के कच्चेमाल का उत्पादन शुरू करवाया

किसान चाची आज भारत के कई महिलाओं एवं किसानों के लिए प्रेरणा श्रोत हैं जिन्होंने जमीन से सफर शुरू कर आज एक ऐसे मुकाम पर हैं जो भारत के किसी भी व्यक्ति के लिए सबसे बड़े सम्मान कि बात है कृषि वाणी आपको ऐसे ही सफल किसान के अनुभवों को लगातार साझा करता रहेगा अगर आपके पास भी कोई ऐसे महिला या पुरुष किसान कि जानकारी हो तो आप हमें भी कमें बॉक्स में अपना नंबर दे हमारी टीम आपसे संपर्क कर उनकी पूरी जानकारी ले कर प्रकाशित करेंगे व् भारत के सभी राज्यों तक पहुंचाएंगे

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

Comments are closed.