- Sponsored -

- Sponsored -

फसलों के भंडारण हेतु मुख्य बातें किसान भाई जरूर पढ़ें

0 162

कोरोना संकट में गांव एक्सप्रेस कि टीम लगातार किसानों के लिए कृषि से जुड़ी जानकारी उपलब्ध करने का प्रयास कर रहा है ऐसे में रबी के फसल कि कटाई का काम शुरू हो चुका है और कई जगह दलहन की फसल कट चुकी है ऐसे में किसान भाई भंडारण को लेकर सचेत रहने की जरूरत है जिससे उनके भंडारण किये गए अनाज में किट ना लगे ऐसे में कुछ उपाय दिए जा रहे है जो किसान भाइयों के लिए बहुत ही उपयोगी है किसान भाइयो इस समय फसल की कटाई एव मड़ाई का कार्य चल रहा है । चना, मसूर, मटर की कटाई एव मड़ाई का 90 % कार्य पूरा हो चुका है जबकि गेहूँ की कटाई एव मड़ाई चल रही है । कोरोना वायरस के कारण यातायात बन्द है एवं भीड़ भाड़ से दूर रहना है ,ऐसी स्थिति में उपज को सुरक्षित रखना एव सुरक्षित भण्डारण करना बहुत ही आवस्यक है ।भण्डारित अनाज/ बीज में बहुत से कीट लगते है जिससे बहुत ज्यादा नुकसान होता है ।
भण्डारण में कीट लगने के प्रमुख कारण है ।

1. बीज/ अनाज में नमी का ज्यादा होना ।

2. भण्डारित पात्र जैसे बोरा/बोरी, बखारी, कुठला/कुठली में पहले से ही कीट का रहना।

3. नए एव पुराने अनाज को एक साथ या पास-पास रखना ।

4. भण्डारगृह के पास नमी का होना ।

5.भण्डार पात्र को सही से बन्द न करना ।


भण्डारित बीज/अनाज को नुकसान से बचाने हेतु


आवश्यक सावधानी बरतें।

1. अनाज/बीज को दो दिन तक धूप में सुखाये , सायं को छाया में रखकर ठंडा करके सुबह भण्डारित करे ।

2.भण्डारित पात्र को कीट रहित करे ।बोरा/बोरी को गर्म पानी मे 20 मिनट तक उबालकर धूप में अच्छी तरह सुखाए । बखारी, कुठला को मैलाथियान 5% का घोल बनाकर पुताई करके धूप में 3 से 4 दिन तक रखे ।

3. नए एव पुराने अनाज को दूर दूर रखें ।

4. भण्डारगृह के पास नमी न पहुचे ऐसी ब्यवस्था करे।

5.बोरा, बखारी, कुठला को जमीन की सतह से ऊंचा रखे।पात्र को दीवाल से दूर रखें ।

6. बखारी भरते समय सतह पर 2 से 3 इंच भूसा की परत बिछाये तथा अन्त में भी भूसा बिछाकर ढक्कन बन्द कर गीली मिट्टी से एयर टाइट करे।

7.यदि कीड़े लगने की संभावना हो तब सल्फास पाउच  रखे l

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

Leave A Reply

Your email address will not be published.