- Sponsored -

- Sponsored -

यास तूफान को ले कर जरूरी चेतावनी मौसम वाणी के द्वारा पूरी खबर पढ़ें

यास तूफान 26 मई की सुबह ओडिशा और पश्चिम बंगाल की खाड़ी में पहुंचेगा

0 677

पूर्व मध्य बंगाल की खाड़ी के ऊपर उग्र चक्रवाती तूफान ‘यास’ उत्तर पश्चिम दिशा में लगभग 10 किमी प्रति घंटे की गति से पिछले 6 घंटों में बढ़ा और आज, 25 मई, 2021 को 0530 बजे भारतीय मानक समय, पारादीप (ओडिशा) के 320 किमी दक्षिण दक्षिण पूर्व, बालासोर (ओडिशा) के 430 किमी दक्षिण दक्षिण पूर्व,  दीघा (पश्चिम बंगाल) के 420 किमी दक्षिण दक्षिण पूर्व तथा खेपुपारा (बांग्लादेश) से 470 किमी दक्षिण दक्षिण पश्चिम के निकट अक्षांश 18.0 डिग्री उत्तर तथा देशांतर 88.6 डिग्री पूर्व के निकट पूर्वी मध्य तथा समीपवर्ती पश्चिम मध्य बंगाल की खाड़ी में केंद्रित रहा।

इसके अगले 12 घंटों में उत्तर-उत्तर-पश्चिम दिशा में बढ़ने, एक अत्यधिक उग्र चक्रवाती तूफान में तेज होने का अनुमान है। यह उत्तर-उत्तर-पश्चिम दिशा में बढ़ना जारी रखेगा और सघन होगा तथा बुधवार, 26 मई की सुबह तक चंदबाली-धमरा बंदरगाह के बेहद निकट उत्तर ओडिशा और पश्चिम बंगाल तटों के निकट उत्तर पश्चिम बंगाल की खाड़ी में पहुंचेगा। एक बेहद उग्र चक्रवाती तूफान के रूप में 26 मई, बुधवार की दोपहर में इसके पारादीप तथा सागर द्वीपसमूहों के बीच उत्तर ओडिशा-पश्चिम बंगाल तटों को पार करने का अनुमान है।

- Sponsored -

पूर्वानुमान ट्रैक और तीव्रता का विवरण नीचे टेबल में दिया गया है-

तिथि/समय ( भारतीय मानक समय) स्थिति ( अक्षांश डिग्री उत्तर/ देशांतर डिग्री पूर्व) अधिकतम निरंतर सतह हवा की गति (किमी प्रतिघंटे) चक्रवाती विक्षोभ का वर्ग
25.05.21/0230 18.0/88.6 100-110 से बढ़कर

120

उग्र चक्रवाती तूफान
25.05.21/0530 18.7/88.2 105-115 से बढ़कर

125

उग्र चक्रवाती तूफान
25.05.21/1130 19.5/87.9 125-135 से बढ़कर

150

बहुत उग्र चक्रवाती तूफान
25.05.21/1730 20.1/87.7 145-155 से बढ़कर

170

बहुत उग्र चक्रवाती तूफान
26.05.21/2330 20.7/87.4 155-165 से बढ़कर

185

बहुत उग्र चक्रवाती तूफान
26.05.21/1130 21.8/86.5 115-125 से बढ़कर

140

बहुत उग्र चक्रवाती तूफान
27.05.21/2330 22.5/85.6 60-70 से बढ़कर

80

गहरा विक्षोभ
27.05.21/1130 23.2/84.7 35-45 से बढ़कर

55

विक्षोभ

चेतावनी– (1)

वर्षाः उत्तरी तटीय आंध्र प्रदेश– 25 मई को कई स्थानों पर हल्की से मध्यम वर्षा तथा अलग-अलग स्थानों पर भारी वर्षा तथा अलग-अलग स्थानों पर भारी से बहुत भारी वर्षा का अनुमान है।

ओडिशा 25 मई को कई स्थानों पर हल्की से मध्यम वर्षा तथा पुरी, जगतसिंहपुर, खुरदा, कटक, केंद्रपारा, जाजपुर, भद्रक, बालासोर जिलों में भारी से बहुत भारी वर्षा तथा गंजाम, धेनकनल, मयूरभंज जिलों में भारी वर्षा, 26 मई को जगतसिंहपुर, कटक, केंद्रपारा, जाजपुर, भद्रक, बालासोर, मयूरभंज, कियोंझारगढ़ में कुछ स्थानों पर भारी से बहुत भारी तथा अलग-अलग स्थानों पर अत्यधिक भारी वर्षा और पुरी, खुरदा, अंगुल, देवगढ़, सुंदरगढ़ में अलग-अलग स्थानों पर भारी वर्षा और 27 मई को उत्तरी आंतरिक ओडिशा में भारी से बहुत भारी और अलग-अलग स्थानों पर अत्यधिक भारी वर्षा होने का अनुमान है।

पश्चिम बंगाल तथा सिक्किम 25 मई को अधिकांश स्थानों पर हल्की से मध्यम वर्षा तथा मेदिनीपुर, दक्षिण 24 परगना में भारी से बहुत भारी वर्षा तथा हावड़ा, हुगली और उत्तर 24 परगना जिलों में अलग-अलग स्थानों पर भारी वर्षा होने का अनुमान है, 26 मई को मेदिनीपुर में अलग-अलग स्थानों पर अत्यधिक भारी वर्षा तथा झारग्राम, पुरुलिया, बांकुरा, बर्धमान, हावड़ा, हुगली, कोलकाता, उत्तर 24 परगना, बीरभूम में अलग-अलग स्थानों पर भारी से बहुत भारी वर्षा होने का अनुमान है तथा 27 मई को माल्दा और दार्जिलिंग, दिनाजपुर, कलिमपोंग, जलपाईगुड़ी, सिक्किम में अलग-अलग स्थानों पर भारी से बहुत भारी वर्षा होने तथा बांकुरा, पुरुलिया, बर्धमान, बीरभूम और मुर्शिदाबाद के कुछ स्थानों पर भारी वर्षा होने का अनुमान है।

झारखंड 26 एवं 27 मई को अधिकांश स्थानों पर हल्की से मध्यम वर्षा तथा कहीं-कहीं बहुत भारी वर्षा और अलग-अलग स्थानों पर अत्यधिक भारी वर्षा तथा 28 मई को अलग-अलग स्थानों पर भारी से बहुत भारी वर्षा होने का अनुमान है।

बिहार 27 मई को अधिकांश स्थानों पर हल्की से मध्यम वर्षा तथा कहीं-कहीं भारी से बहुत भारी वर्षा और अलग-अलग स्थानों पर अत्यधिक भारी वर्षा होने और 28 मई को अलग-अलग स्थानों पर भारी से बहुत भारी वर्षा होने का अनुमान है।

असम एवं मेघालय 26 एवं 27 मई को अधिकांश स्थानों पर हल्की से मध्यम वर्षा तथा अलग-अलग स्थानों पर भारी से बहुत भारी वर्षा होने का अनुमान है।

(ii) हवा की चेतावनीः मध्य बंगाल की खाड़ी के प्रमुख हिस्सों के ऊपर चक्रवाती हवा गति (100-110 किमी तथा बढ़कर 120 किमी प्रति घंटे तक पहुंचने) के व्याप्त होने का अनुमान। इसके 24 मई की शाम से और तेज होकर 125-135 किमी तथा बढ़कर 140 किमी प्रति घंटे तक पहुंचने का अनुमान है। उत्तर बंगाल की खाड़ी तथा उत्तर आंध्र प्रदेश-ओडिशा-पश्चिम बंगाल-बांग्लादेश तटों के ऊपर चक्रवाती हवा (गति 50-60 किमी तथा बढ़कर 70 किमी प्रति घंटे तक पहुंचने) के व्याप्त होने का अनुमान। धीरे धीरे यह बढ़कर 26 की सुबह से जगतसिंहपुर,  केंद्रपारा, भद्रक सहित से उत्तर पश्चिम बंगाल की खाड़ी और उत्तरी ओडिशा और समीपवर्ती पश्चिम बंगाल तटों के ऊपर 155-165 किमी तथा बढ़कर 185 किमी प्रति घंटे तक पहुंच जाएगी और तेजी आएगी और 26 मई की दोपहर से ओडिशा के बालासोर जिले के ऊपर बढ़ेगी, 26 मई की सुबह से ओडिशा के मयूरभंज जिले के ऊपर तथा पश्चिम बंगाल के पूर्व मेदिनीपुर और 24 परगना जिले के ऊपर ऊपर 100-120 किमी तथा बढ़कर 145 किमी प्रति घंटे तक पहुंच जाएगी। चक्रवाती हवा गति (80-90 किमी तथा बढ़कर 100 किमी प्रति घंटे तक पहुंचने) के इसी अवधि के दौरान ओडिशा के पुरी, कटक, खुरदा, जाजपुर जिलों तथा पश्चिम बंगाल के झारग्राम, पश्चिम मेदिनीपुर, उत्तरी 24 परगना के ऊपर व्याप्त होने का अनुमान। चक्रवाती हवा गति (60-80 किमी तथा बढ़कर 90 किमी प्रति घंटे तक पहुंचने) के गंजाम के निकट तथा उत्तरी ओडिशा शेष आंतरिक जिलों के ऊपर व्याप्त होने का अनुमान। चक्रवाती हवा (गति 60-80 किमी तथा बढ़कर 90 किमी प्रति घंटे तक पहुंचने) 26 मई की सुबह से ओडिशा के गंजाम, धेनकानल और किंयोझार जिलों तथा पश्चिम बंगाल के बांकुरा, पुरुलिया, हावड़ा, हुगली, नादिया और बर्धमान जिलों के ऊपर व्याप्त होगी। इसी अवधि के दौरान, चक्रवाती हवा (गति  50-60 किमी तथा बढ़कर 70 किमी प्रति घंटे तक पहुंचने) ओडिशा के अंगुल, देवगढ़ और सुंदरगढ़ जिलों, पश्चिम बंगाल के बीरभूम तथा मुर्शिदाबाद जिलों और आंध्र प्रदेश के श्रीकाकुलम, विजयनगरम तथा विशाखापट्टनम जिलों के ऊपर व्याप्त होगी। 26 मई की दोपहर से दक्षिण झारखंड के ऊपर चक्रवाती हवा (गति 40-50 किमी तथा बढ़कर 60 किमी प्रति घंटे तक पहुंचने) व्याप्त होने का अनुमान और धीरे धीरे इसके बढ़कर 26 मई की शाम/रात तक दक्षिण पूर्व झारखंड के ऊपर गति 90-120 किमी तथा बढ़कर 130 किमी प्रति घंटे तक पहुंचने तथा दक्षिण पश्चिम झारखंड के ऊपर गति 70-80 किमी तथा बढ़कर 90 किमी प्रति घंटे तक पहुंचने का अनुमान है। चक्रवाती हवा (गति 50-60 किमी तथा बढ़कर 70 किमी प्रति घंटे तक पहुंचने) 27 मई को ओडिशा के केंद्रपारा, भद्रक, बालासोर, मयूरभंज, कियोंझार, देवगढ़ और सुंदरगढ़ जिलों तथा पश्चिम बंगाल के पश्चिमी मेदिनीपुर, झारग्राम, बांकुड़ा और पुरुलिया जिलों के ऊपर व्याप्त होगी।

(iii)  समुद्र की स्थिति– समुद्र की स्थिति पश्चिम मध्य तथा समीपवर्ती पूर्व मध्य बंगाल की खाड़ी के ऊपर उच्च से बहुत उच्च है। इसके 25 की शाम से 26 मई की शाम के दौरान मध्य बंगाल की खाड़ी के उत्तरी हिस्सों, उत्तर बंगाल की खाड़ी और उत्तरी आंध्र प्रदेश-ओडिशा-पश्चिम बंगाल-बांग्लादेश तटों के समीप बहुत उच्च से अत्यधिक उच्च हो जाने का अनुमान है।

(iv)  मछुआरों को चेतावनी– मछुआरों को 26 मई की दोपहर तक मध्य बंगाल की खाड़ी तथा 25-26 मई के दौरान उत्तर बंगाल की खाड़ी और उत्तरी आंध्र प्रदेश-ओडिशा-पश्चिम बंगाल-बांग्लादेश तटों के करीब न जाने का सुझाव दिया गया है।

जो लोग उत्तर के गहरे समुद्र तथा समीपवर्ती मध्य बंगाल की खाड़ी में गए हुए हैं, उन्हें तट पर लौट आने का सुझाव दिया गया है।

(v)  तूफान में तेजी की चेतावनी- खगोलीय ज्वार से ऊपर 2-4 मीटर की ज्वारीय लहरों के जमीन से टकराने के दौरान तक मेदिनीपुर बालासोर, भद्रक के निचले तटीय क्षेत्रों के जलमग्न होने की आशंका है और 2 मीटर की ज्वारीय लहरों के जमीन से टकराने के दौरान दक्षिण 24 परगना, मेदिनीपुर, केद्रपारा और जगतसिंहपुर जिलों के निचले तटीय क्षेत्रों के जलमग्न होने की आशंका है।

उत्तरी ओडिशापश्चिम बंगाल के तटीय जिलों और इन राज्यों के समीपवर्ती आंतरिक जिलों के लिए अपेक्षित नुकसान

  • फूस के मकान पूरी तरह ध्वस्त/कच्चे घरों को व्यापक नुकसान। पक्का घरों को कुछ नुकसान।
  • उड़ने वाली वस्तुओं से संभावित खतरा
  • बिजली तथा संचार के खंभों का मुड़ जाना/उखड़ना
  • कच्ची तथा पक्की सड़कों को भारी नुकसान
  • निकलने के रास्तों पर बाढ़
  • रेलवे, ओवरहेड बिजली के तारों तथा सिग्नलिंग प्रणालियों में बाधा,
  • खड़ी फसलों, बगानों, उद्यानों को व्यापक नुकसान, हरे नारियलों के गिरना तथा ताड़ पत्रों का टूटना
  • आम जैसे झाड़ीदार पेड़ों को नुकसान
  • छोटी नौकाएं, कंट्री क्राफ्ट मूरिंग्स से अलग हो सकते हैं
  • दृश्यता बुरी तरह प्रभावित

उत्तरी ओडिशापश्चिम बंगाल के तटीय जिलों और इन राज्यों के समीपवर्ती आंतरिक जिलों के लिए सुझाए गए कदम

  • प्रभावित क्षेत्रों में मछली पालने का काम तथा जहाजों की आवाजाही स्थगित
  • भारत के पूर्वी तट के करीब के बंदरगाह आवश्यक सावधानी बरत सकते हैं
  • नौसेना बेस आपरेशन आवश्यक सावधानी बरत सकते हैं
  • इन क्षेत्रों में पर्यटन गतिविधियां सीमित की जाएं
  • पश्चिम बंगाल और उत्तरी ओडिशा के तटीय क्षेत्रों से निकासी की जाए
  • रेल एवं सड़क यातायात की विवेकपूर्ण विनियमन
  • प्रभावित क्षेत्रों के लोग घरों के भीतर ही रहें

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

Leave A Reply

Your email address will not be published.