- Sponsored -

- Sponsored -

जाने रैपिड किट बनने से कैसे जल्दी जांच होगा कोरोना संक्रमण का

0 128

भारत में क्रोना जिस प्रकार पाँव पसार रहा है उससे केंद्र सरकार लगातार देशवासियों से अपील कर रही है कि वे सभी घरों में ही रहे तभी इस संक्रमण से सभी सुरक्षित रहेंगे गांव एक्सप्रेस कि टीम भी आपसे अपील करती है घर में रहें सुरक्षित रहें  जिससे इस बिमारी को फैलने से रोका जा सके  देश कि कई स्वस्थ अनुसंधान एजेंसियां भी लगातार अनुसंधान में लगी है जिससे इस बिमारी का जांच जल्द से जल्द हो सके इसके लिए केंद्र सरकार कि  विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग ने कोविड 19 रोग का तेजी से पता लगाने के लिए अपने प्लेटफार्म टेक्नोलाजी को बढ़ाने हेतु प्वाइंट आफ केयर डायग्नोस्टिक पर कार्य कर रहे एक पुणे स्थित स्वास्थ्य स्टार्ट अप ‘माड्यूल इनोवेशंस’का वित्तपोषण किया है जिससे कि  10 से 15 मिनट की जांच के साथ कोविड-19 का पता लगाने के लिए एक उत्पाद का विकास किया जा सके।



अपने प्रमुख उत्पाद यूसेंस की सिद्ध अवधारणा का उपयोग करते हुए,माड्यूल अब एनकोवसेंसेज (टीएम) का विकास कर रहा है जो एंटीबाडीज,जिन्हें मानव शरीर में कोविड 19 के खिलाफ सृजित किया गया है,का पता लगाने के लिए एक रैपिड टेस्ट डिवाइस है।

वर्तमान में भारत जिस चरण से गुजर रहा है व्यापक रूप से स्क्रीनिंग करना बेहद आवश्यक है। रैपिड टेस्ट डिवाइस के साथ रोगियों में संक्रमण की पुष्टि करना और यह निर्धारित करना भी कि क्या संक्रमित व्यक्ति ठीक हो चुका है, तथा यह पता लगाना भी कि रोगियों में संक्रमण का चरण क्या है संभव हो जाएगा।


रियल टाइम रिवर्स ट्रांसक्रिप्शन पोलीमिरेज चेन रिएक्शन (आरटी-पीसीआर) की स्वर्ण मानक की वर्तमान संपुष्टि प्रणाली महंगी है,ज्यादा समय लेती है और इसके लिए प्रशिक्षित श्रमबल की आवश्यकता होती है। यह नया रैपिड टेस्ट कम लागत पर अधिक प्रभावी तरीके से समस्या को प्रबंधित कर सकती है।

विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग के सचिव प्रोफेसर आशुतोष शर्मा ने कहा,“हालांकि यह पीसीआर आधारित संपुष्टि तकनीक का विकल्प नहीं है,पर एंटीबाडीज का पता लगाने पर आधारित परीक्षणों का उपयोग वैश्विक रूप से त्वरित व्यापक जांचों के लिए किया जा जा रहा है जो पीसीआर मशीनों की सीमित संख्या से कुछ बोझ को कम करेगा और अन्य बातों के अलावा कार्यनीतियों को बनाने एवं निर्णय निर्माण करने में सहायक होगा।”




एनकोवसेंसेज परीक्षण का लक्ष्य वायरल संक्रमण के उभार पर मानव शरीर में सृजित प्हळ एवं प्हड एंटीबाडीज का पता लगाना है और इसे कोविड 19 के लिए विशिष्ट बनाते हुए स्पाइक प्रोटीन के खिलाफ टारगेट किया गया है।

स्टार्ट अप की योजना राष्ट्रीय एजेन्सियों से नियत सत्यापन प्राप्त करने के बाद 2-3 महीनों के समय में परीक्षण को तैनात करने की है। भविष्य में यह उन रोगियों को भी निर्धारित करने में सहायता करेगी जो रिकवर कर चुके हैं और उन्हें फ्रंटलाइन जाब निरुपित करेगी। इस परीक्षण का उपयोग हवाई अड्डों,रेलवे स्टेशनों,अस्पतालों तथा ऐसे अन्य स्थानों पर जांच करने में किया जा सकता है और इस प्रकार वे भविष्य में किसी प्रकोप से भी रक्षा कर सकते हैं।


हालांकि प्रौद्योगिकी की व्यवहार्यता सिद्ध हो चुकी है,अवधारणा का प्रमाण (पीओसी) और उत्पाद की कार्य क्षमता प्रदर्शित करते हुए प्रोटोटाइप का प्रदर्शन किया जाना अभी शेष है।

अधिक विवरण के लिए संपर्क करें

सचिन दूबे 

sachin@moduleinnovations.com

7350840295

आप इस महत्वपूर्ण जानकारी को अपने दोस्तों तक जरूर पहुंचाएं और गांव एक्सप्रेस टीम कि अपील है कि अपने परिवार को सुरक्षित रखने के लिए सभी घर में रहें और सुरक्षित रहें आप तक भी अगर कोई जानकारी हो तो कमेंट   करें 

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

Leave A Reply

Your email address will not be published.