- Sponsored -

- Sponsored -

कोरोना संकट पर अभी तक सरकार के कदम एवं तैयारी का ब्यौरा

0 133


जिस कोरोना ने कई देशों की नींद उड़ा दी है ऐसे में भारत सरकार दृढ़ता के साथ एवं सभी भारतवासियों के साथ मिल कर मुकाबला कर रहा है आज भारत में सिर्फ एक ही धर्म है वो है मानवता जिसके लिए सभी डॉक्टर,पुलिस स्वास्थ्य कर्मचारी,सफाई कर्मचारी के साथ साथ कई सामाजिक संगठन ने  दिनरात एक कर दिया है    देश में कोविड-19 की रोकथाम, नियंत्रण और प्रबंधन के लिए भारत सरकार द्वारा राज्यों/ संघ शासित प्रदेशों के सहयोग से विभिन्न कार्य शुरू किए गए हैं। इन कार्यों की उच्चतम स्तर पर नियमित निगरानी की जा रही है।

देश में कोविड-19 के नियंत्रण और प्रबंधन संबंधी आवश्‍यकताओं की पूर्ति करने के लिए डॉक्‍टरों, नर्सिंग व्‍यवसायियों, संबंद्ध स्‍वास्‍थ्‍य सेवा व्‍यवसायियों सहितअन्‍य स्‍वास्‍थ्‍य व्‍यवसायियों के विभिन्‍न स्‍तर उपलब्‍ध हैं। लगभग 9.70 लाख आशा, एक लाख आयुष व्‍यवसायी, एनसीसी कैडेट, पूर्व सैनिक, रे‍डक्रॉस/एनएसएस/एनवाईके स्‍वयंसेवी, ग्राम पंचायतों के कर्मचारी और शहरी स्‍थानीय निकायों के कर्मचारी, सामाजिक संगठनों को भी आवश्‍यकता पड़ने पर शामिल किया जा सकता है।अस्‍पताल के प्रबंधन के तहत रेजीडेंट्स/पीजी छात्रों और नर्सिंग छात्रों के पुन:आवंटन के लिए स्‍टेंडर्ड ऑपरेटिंग प्रोटोकॉल (एसओपी) तैयार किया गया है। इसके अतिरिक्‍त सरकार, सशस्‍त्र बल चिकित्‍सा सेवाओं, सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों और निजी चिकित्‍सकों सहित 31,000 से अधिक डॉक्‍टरों ने स्वेच्छापूर्वक कोविड-19 के खिलाफ जंग में शामिल होने की प्रतिबद्धता व्‍यक्‍त की है।


स्‍वास्‍थ्‍य एवं परिवार कल्‍याण मंत्रालय ने ‘चेहरे और मुंह को ढकने के लिए घर में निर्मित रक्षात्‍मक कवर’ के उपयोग के बारे में परामर्श जारी किया है, जो 

:https://www.mohfw.gov.in/pdf/Advisory&ManualonuseofHomemadeProtectiveCoverforFace&Mouth.

पीडीऍफ़  पर उपलब्‍ध है। 

अब तक विभिन्‍न विषयों जैसे नैदानिक प्रबंधन, वेंटिलेटर सपोर्ट, संक्रमण की रोकथाम और नियंत्रण, क्‍वारंटीनप्रबंधन आदि पर 30 प्रशिक्षण मॉड्यूल तैयार और संकलित किए गए हैं, जो स्‍वास्‍थ्‍य एवं परिवार कल्‍याण मंत्रालय की वेबसाइट  : https://www.mohfw.gov.in/  पर उपलब्‍ध है। 

ऐसा देखा गया है कि अधिकांश मौतों के मामले वृद्धों अथवा मधुमेह, उच्‍च रक्‍तचाप, गुर्दा/हृदय रोग आदि जैसे सह-रोगों से ग्रसित लोगों में देखे जा रहे हैं। इसलिए अधिकतम जोखिम वाली श्रेणी में आने वाले लोगों के लिए आवश्‍यक है कि वे समस्‍त सावधानियों का पालन करें। इसके अलावा,अब तक रिपोर्ट किए गएसभी पोजिटिव मामलों के संबंध में किए गए ऐज प्रोफाइल विश्‍लेषण से निम्‍नलिखित बातों का पता चलता हैं :

○ 8.61% मामले  0-20 वर्ष आयुवर्ग के हैं

○ 41.88% मामले  21 से 40 वर्ष आयुवर्ग के हैं

○ 32.82% मामले 41 से 60 वर्ष आयुवर्ग के हैं

○16.69% मामले 60वर्षसे अधिक आयु के लोगों के हैं



लाइफलाइन उड़ान के अंतर्गत, कार्गो उड़ानों के माध्‍यम से  पूर्वोत्‍तर राज्‍यों और पर्वतीय क्षेत्रों पर विशेष रूप से ध्‍यान केंद्रित करते हुए समस्‍त राज्‍यों में आज तक लगभग 119 टन सामग्री पहुंचायी गई है। इस सामग्री में कोविड-19 से संबंधित रीऐजन्ट्स,एंजाइम, चिकित्सा उपकरण, परीक्षण किट, व्यक्तिगत सुरक्षा उपकरण (पीपीई), मास्क, दस्ताने आदि शामिल हैं।

अब तक, कोविड-19 के 2902मामलों की पुष्टि हो चुकी है और 68मौतें हुई हैं। 183 व्‍यक्तियों का इलाज किया जा चुका है/ स्‍वस्‍थ होने के बाद अस्‍पताल से छुट्टी दी जा चुकी है।  रिपोर्ट किए गए 2902 मामलों में से 1023 मामलों का संबंध 17 राज्‍यों में तबलीगी जमात से है, जिनमें तमिलनाडु, दिल्ली, आंध्र प्रदेश, असम, जम्‍मू-कश्‍मीर, राजस्थान, तेलंगाना,अंडमान निकोबार द्वीप समूह, अरुणाचल प्रदेश, हरियाणा, हिमाचल, झारखंड, कर्नाटक, केरल, महाराष्ट्र, उत्तराखंड और उत्तर प्रदेश शामिल हैं।

कोविड-19 से संबंधित तकनीकी मामलों के बारे में सभी प्रकार की विश्‍वसनीय और अद्यतन जानकारी, दिशानिर्देशों एवं परामर्शों  के लिए कृपया नियमित रूप से : https://www.mohfw.gov.in/  देखें।

कोविड-19 से संबंधित तकनीकी प्रश्‍नों को technicalquery.covid19@gov.inऔर अन्‍य प्रश्‍नों को ncov2019@gov.inपर ई-मेल के माध्‍यम  से भेजा जा सकता है ।


कोविड-19 के बारे में किसी भी प्रश्‍न के बारे में कृपया स्‍वास्‍थ्‍य एवं परिवार कल्‍याण मंत्रालय को हेल्‍पलाइन नम्‍बर : +91-11-23978046 या 1075 (टोल फ्री) पर सम्‍पर्क करें। राज्‍यों/संघशासित प्रदेशों के हैल्‍पलाइन नम्‍बरों की सूची  https://www.mohfw.gov.in/pdf/coronvavirushelplinenumber.pdf पर भी उपलब्‍ध है।
आज इस संकट की घडी में हम सभों को मिलकर संयम के साथ इस कोरोना को हराना है और गांव एक्सप्रेस का प्रयास है की हम आप तक सत्य एवं तथ्य के साथ  ग्रामीण , स्वास्थ्य एवं अन्य क्षेत्रों के किसी भी जानकारी को पहुँचाने के लिए  लगातार प्रयासरत है आप हमसे जुड़ने के लिए हमारे ब्लॉग को फॉलो करें कमेंट करें 

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

Leave A Reply

Your email address will not be published.