- Sponsored -

- Sponsored -

कोरोना महामारी जैसी संकट में फसल सुरक्षा उपाय

0 145
किसान साथियों हम सब इस वैश्विक महामारी से बुरी तरीके से प्रभावित है एक ओर कुछ दिनों पूर्व हुई ओलावृष्टि से जहां किसानों की फसलें तबाह हुई वहीं उसके बाद कोरोना जैसी भयावह बीमारी ने कृषि पशुपालन की मानो कमर तोड़ दी हो  किंतु हम सबको विपदा की इस घड़ी में सावधानीपूर्वक एवं सूझबूझ का प्रयोग करते हुए कार्यों का सतत निर्वहन करना होगा ताकि हम परिवार एवं देशवासियों का पेट भर सके
वर्तमान परिदृश्य को देखते हुए कृषको हेतु निम्न सुझाव दिए जा रहे हैंकटाई करते समय किन किन बातों का ध्यान रखें
1) फसल कटाई में कृषि यंत्र की मदद लें मानव श्रम लगाने से बचें
2)कोशिश करें कटाई कार्यों में परिवारिक सदस्यों का भी सहयोग ले किसी बाहरी व्यक्ति  से बचाव करें
3) जो व्यक्ति  कृषि कार्यों में लगे हुए हैं वह अपने कृषि यंत्रों को समय-समय पर डिटर्जेंट से साफ करते रहे
4) कटाई के समय उचित दूरी एवं सुरक्षा संबंधी उपाय जैसे सैनिटाइजर ,फेस मास्क एवं शरीर को ढककर रखें तथा कटाई उपरांत साबुन से स्नान कर ले
5) अनाज एकत्रीकरण, प्रोसेसिंग, सफाई ,ग्रेडिंग ,छटाई पैकिंग, भंडारण इत्यादि कार्यों में कम से कम लेबर लगाएं एवं तीन चार फीट की दूरी बनाए रखें
6) भंडारण से पहले अनाज को अच्छी तरह सुखा लें तथा पुराने बोरों का प्रयोग ना करें यदि आवश्यक लगे तभी उपयोग करें एवं कीटनाशक मेलाथियान 2% का बोरो पर छिड़काव अवश्य करें
7) अनाज, फल -सब्जी इत्यादि की लोडिंग एवं अनलोडिंग के समय उचित दूरी बनाए रखें
फल सब्जी
गर्मी में अधिक स्तर पर किसान कद्दूवर्गीय सब्जियों की खेती करते हैं जैसे तोरई ,कद्दू ,खीरा, लौकी ,करेला, खरबूज, तरबूज इत्यादि जिसके लिए आवश्यक सुझाव निम्न है
फल मक्खी कीट नियंत्रण – फल मक्खी कीट फलों में दाग एवं सडन कर फलों को बर्बाद कर देती है
जैविक नियंत्रण-
1) फ्रूट फ्लाई ट्रैप 10 से 15 प्रति एकड़ लगाएं एवं 15 -15 दिन उपरांत लयोर बदलते रहें ….यदि फ्रूट फ्लाई ट्रैप नहीं मिल पा रहा हो तो केले के छिलके में मैलाथियान या डाईक्लोरवास की कुछ बूंदें डालकर खेत में 20से25 जगह बिखेर दें।
2) खेत में सुबह शाम धुआं करें।

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

- Sponsored -

Leave A Reply

Your email address will not be published.